Wednesday, June 22, 2022
spot_img
Homeराज्यदिल्लीडॉक्टरों की हड़ताल से बिगड़ रहे हालात

डॉक्टरों की हड़ताल से बिगड़ रहे हालात

नई दिल्ली. नीट-पीज काउंसलिंग जल्द कराने की मांग को लेकर दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में डॉक्टर विरोध कर रहे हैं। इसके तहत वे ओपीडी, इमरजेंसी में इलाज नहीं कर रहे हैं। इससे हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते जा रहे हैं। कुछ मरीजों की मौत हो चुकी है। रोजाना मरीजों और उनके तीमारदारों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के दिल्ली में केस बढ़ रहे हैं। इस बीच डॉक्टरों की हड़ताल गंभीर परिणाम ला सकती है। ओमिक्रॉन के मरीजों का इलाज करने के लिए लोकनायक (एलएनजेपी) अस्पताल को अधिकृत किया गया है। यहां् भी डॉक्टरों की हड़ताल चल रही है। सफदरजंग, जीटीबी, आरएमएल सहित दिल्ली के लगभग सभी बड़े अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर हड़ताल पर हैं। फिलहाल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली में हड़ताल नहीं है, लेकिन अन्य अस्पतालों में रेजीडेंट डॉक्टरों ने ओपीडी, इमरजेंसी और कोविड वार्ड में ड्यूटी देने से साफ मना कर दिया है। इससे मरीजों और तीमारदारों को भी काफी परेशानी हो रही है। अस्पताल में व्यवस्था कायम रखने के लिए वरिष्ठ डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई गई थी, लेकिन सप्ताह भर पहले हुई हड़ताल के दौरान वरिष्ठ डॉक्टर ना ओपीडी में दिखे थे ना ही इमरजेंसी मेें, जिसके चलते सफदरजंग अस्पताल में एक महिला मरीज की मौत हो गई थी।

नवधारणाhttps://navdhardna.com
नवधारणा, एक तेज-तर्रार, जीवंत और गतिशील हिन्दी समाचार और करंट अफेयर्स पोर्टल है जो क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय समाचार, राजनीति, मनोरंजन, खेल, आध्यात्मिकता, नौकरी, करियर और शिक्षा सहित कई प्रकार की शैलियों को कवर करता है। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, छत्तीसगढ, झारखंड, पंजाब, पश्चिम बंगाल, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा से एकत्रित लोकल समाचारों की रीयल टाइम ऑनलाइन कवरेज नवधारणा की विशेषता है।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments