मालूम हो कि विमान में शुरुआती किराया काफी कम होता है। लेकिन जैसे- जैसे विमान की सीटें भरती जाती है। उसमें किराया बढ़ता जाता है। यही कारण है कि उड़ानों में कुछ माह पहले बुकिंग करवाने पर सस्ता टिकट मिलता है। लेकिन जैसे- जैसे यात्रा की तारीख नजदीक आती है, किराया बढ़ता जाता है।

जानकारी हो कि अमेरिका, ब्रिटेन, स्विटजरलैंड, साउथ अफ्रीका ऐसे देश है, जहां पर ओमिक्रोन के मामले लगातार बढ़ रहे है। कई देशों में पांबदी के लिए सख्ती भी कर रहे है। ऐसे में लोग को परेशानी हो रही है। वहीं साउथ अफ्रीका से भारत लौटने वाले लोगोें को ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन के अनुसार अभी भारत ने कई अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा रखी है। केवल एयर बबल योजना के तहत सीमित संख्या में उड़ानें चल रही है। ऐसे में वहां से आने वाली उड़ानों में किराया बढ़ गया है। जैसे अगर दुबई से इंदौर आने वाली उड़ान वाली को ही देखे तो अब तक इसमें इंदौर से जाने वाला टिकट ही मंहगा था, जबकि वहां से इंदौर आने का किराया काफी कम था। अब यह किराया भी बढ कर 32 हजार रुपये तक पहुंच गया है। जबकि जब यह उड़ान शुरू हुई थी तब किराया 6 से 12 हजार रुपये तक था।