Solar Eclipse: 4 दिसंबर को सूर्य ग्रहण पड़ने वाला है। इस दिन शनिचरी अमावस्या भी है। सूर्य ग्रहण एशिया को छोड़कर अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका महादेश के कई देशों में दिखाई देगा। धार्मिक ग्रंथों में निहित है कि सूर्य ग्रहण के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। साथ ही अन्न -जल ग्रहण करने की भी मनाही रहती है। सूर्य ग्रहण और अमावस्या के दिन पूजा, जप, तप और दान का विशेष महत्व है। ज्योतिषों की मानें तो सूर्य ग्रहण के दौरान दान करने से जीवन में सुख और समृद्धि का आगमन होता है। -सूर्य ग्रहण में गरीबों एवं जरूरतमंदों को जथा शक्ति तथा भक्ति भाव से दान-पुण्य करें। इसके पुण्य प्रताप से अमोघ फलों की प्राप्ति होती है। साथ ही पितरों को मोक्ष मिलता है।

-सूर्य ग्रहण के दौरान जूते का दान करना चाहिए। इससे जीवन में समृद्धि का आगमन होता है। ज्योतिषों की मानें तो जूते का दान करने से राहु-केतु का प्रभाव कम होता है।

-अमावस्या के दिन दान करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसके लिए शनिचरी अमावस्या के दिन अन्न-जल का दान अवश्य करें। आप असहाय लोगों को आर्थिक सहायता भी दे सकते हैं।